सीतापुर, 11 मार्च (आईएएनएस/आईपीएन)। ईश्वर की उपासना करने वालों से भरी दुनिया में एक वर्ग ऐसा भी है जो नास्तिक है। सीतापुर जिले में ऐसे ही विचार मानने वाले कुछ लोगों ने संगठन बनाया है। संगठन का नाम 'नास्तिकता न्यास' रखा गया है। यह संगठन समाज में बढ़ते अंधविश्वास के खिलाफ आवाज उठाएगा। इसके संस्थापक और संयोजक के.जी. त्रिवेदी हैं। इस न्यास को उन्होंने एक लाख रुपये निजी तौर पर दिया है। अभी इस संस्था से 22 लोग जुड़े हुए हैं।

नास्तिकता न्यास से जुड़े गया प्रसाद ने कहा कि समाज में बढ़ते अंधविश्वास के खिलाफ संगठन आवाज उठाएगा। अभी यह संगठन बना है आगे चलकर यह विशाल वृक्ष का रूप लेगा और समाज की दशा और दिशा को बदलेगा।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

बीजिंग, 11 मार्च (आईएएनएस)| चीन के गांसु प्रांत में रविवार को एक सड़क दुर्घटना में चार लोगों की मौत हो गई जबकि छह घायल हो गए। यातयात पुलिस ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, दुर्घटना बेयिन शहर में शाम के वक्त हुई जब एक खतरनाक मोड़ पर एक कार की टक्कर एसयूवी वाहन से हो गई। दोनों वाहनों में कम से कम 10 लोग सवार थे।

घटनास्थल पर ही दो लोगों की मौत हो गई जबकि दो ने बाद में इलाज के दौरान दम तोड़ा।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

नई दिल्ली, 11 मार्च (आईएएनएस)| राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 16 दिसम्बर को हुई सामूहिक दुष्कर्म की घटना के मुख्य अभियुक्त ने सोमवार सुबह यहां तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली। एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक मामले के मुख्य अभियुक्त राम सिंह ने तड़के करीब पांच बजे तिहाड़ जेल की जेल नंबर 3 के वार्ड नंबर 5 में खुदकुशी कर ली।

उसे तुरंत दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

गौरतलब है कि 16 दिसम्बर, 2012 को राम सिंह व उसके पांच साथियों ने राजधानी की सड़कों पर एक चलती बस में 23 वर्षीया ट्रेनी फिजियोथेरेपिस्ट के साथ बर्बरता पूर्ण तरीके से सामूहिक दुष्कर्म किया था।

पीड़िता को आई चोटों के चलते घटना के दो सप्ताह बाद सिंगापुर के एक अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

लखनऊ, 11 मार्च (आईएएनएस/आईपीएन)। आवासीय मांग को पूरा करने के लिए आवास विकास परिषद, उत्तर प्रदेश अब छोटे जिलों में भी नई योजनाएं शुरू करने जा रहा है। प्रथम चरण में महोबा और अलीगढ़ में आवासीय योजनाओं के लिए भूमि अधिगृहीत की जाएगी। लखनऊ की वृंदावन योजना के लिए जिन किसानों की भूमि ली गई है, उन्हें अब 31 दिसंबर तक भूखंड मिल जाएंगे। प्रमुख आवास सचिव प्रवीर कुमार की अध्यक्षता में हाल ही में हुई आवास बोर्ड की बैठक में अगले वित्त वर्ष के लिए 2833 करोड़ रुपये के बजट को अनुमोदित करने के साथ ही कई अहम फैसले लिए गए।

इस संबंध में आवास आयुक्त रुद्र प्रताप सिंह ने बताया, "चार मंजिला भवनों से अधिक की मूल्यांकन गाइड लाइन के प्रस्ताव को बोर्ड ने मंजूरी दे दी है। ऐसे में अब बहुमंजिला भवनों के निर्माण में इस्तेमाल होने वाली भूमि की कीमत का डेढ़ गुना मूल्य परियोजना लागत की गणना में शामिल किया जाएगा जिससे फ्लैट की कीमत दस फीसदी से ज्यादा बढ़ना तय है।"

सिंह ने बताया, वृंदावन योजना के लिए जिन किसानों की भूमि ली गई है, उन्हें भूमि का पांच फीसदी आकार का भूखंड देने की अवधि को अब 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया गया है।

आयुक्त ने बताया कि महोबा में बांदा रोड पर 140 एकड़ में व अलीगढ़ में आगरा रोड पर 134 एकड़ जमीन पर नई आवासीय योजना शुरू करने का निर्णय भी बोर्ड ने किया है। इसके लिए धारा 28 के तहत भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई करने को बोर्ड ने मंजूरी दे दी है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Don't Miss