केपटाउन: इंग्लैंड ने टी-20 रैंकिंग में आस्ट्रेलिया को हटा कर नंबर-1 टीम की कुर्सी अपने नाम कर ली है। इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को तीन मैचों की टी-20 सीरीज में 3-0 से हरा कर नंबर-1 टीम का दर्जा हासिल किया।

आखिरी वनडे में इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को नौ विकेट से मात दी। इसी के साथ इयोन मोर्गन की कप्तानी वाली इंग्लैंड ने 2018 से चले आ रहे टी-20 सीरीज जीतने के क्रम को जारी रखा है।

इंग्लैंड वनडे में भी नंबर-1 है जबकि टेस्ट में वो चौथे नंबर पर है।

भारत टी-20 में नंबर-3 स्थान पर है। आस्ट्रेलिया के साथ शुक्रवार से शुरू हो रही तीन मैचों की टी-20 सीरीज में भारत अच्छा कर रैंकिंग में बेहतर करना चाहेगी।

बल्लेबाजों की रैकिंग में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नाबाद 99 रनों की पारी खेलने वाले इंग्लैंड के डेविड मलान पहले नंबर पर कायम हैं। उनके बाद पाकिस्तान के बाबर आजम, एरॉन फिंच, लोकेश राहुल हैं।

गेंदबाजों की रैंकिंग में अफगानिस्तान के राशिद खान पहले स्थान पर हैं। दूसरे स्थान पर राशिद के हमवतन मुजीब उर रहमान और आस्ट्रेलिया के एश्टन एगर हैं।

हरफनमौला खिलाड़ियों की सूची में अफगानिस्तानके मोहम्मद नबी पहले स्थान पर हैं। दूसरे स्थान पर बांग्लादेश के शाकिब अल हसन और फिर ग्लैन मैक्सवेल हैं।

--आईएएनएस

एकेयू-एसकेपी

लखनऊ: रोजगार का इंतजार कर रहे उत्तर प्रदेश के युवाओं के अच्छे दिन आने वाले हैं। स्वीडन की कंपनी यूपी के युवाओं के लिए रोजगार की बड़ी सौगात लेकर आई है। फर्नीचर और होम अप्लायेंस बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक आइकिया महज कुछ सप्ताह में नोएडा में अपना आउटलेट शुरू करने जा रही है।

52 देशों में अपने आउटलेट खोल कर बड़ी संख्या में रोजगार और व्यापार उपलब्ध कराने वाली स्वीडन की कंपनी यूपी में 5,000 करोड़ का निवेश कर करीब दर्जन भर आउटलेट खोलने की तैयारी में है। योगी सरकार ने आइकिया को आउटलेट बनाने के लिए नोएडा में 47,833 वर्ग मीटर जमीन उपलब्ध कराई है। नोएडा में आइकिया भारत का अपना सबसे बड़ा आउटलेट शुरू करने जा रही है।

नोएडा में आइकिया को जमीन एलाट करने के साथ ही राज्य सरकार ने कंपनी के करीब 5,000 करोड़ रुपये के निवेश की योजना को जमीन में उतार दिया है। दुनिया के 52 देशों में 433 से ज्यादा सेंटर खोलने वाली आइकिया यूपी में बड़ा निवेश करने की तैयारी में है। नोएडा से शुरूआत कर रही आइकिया की योजना पूर्वांचल और मध्य यूपी में कम से कम तीन बड़े आउटलेट खोलने की है।

नोएडा का सेंटर शुरू करने के साथ ही अन्य आउटलेट की योजना को अंतिम रूप दिया जाएगा। कंपनी 2025 तक योगी सरकार के साथ तय योजना के मुताबिक अपने सभी आउटलेट शुरू कर देगी। अमेरिका, यूरोप, उत्तरी अफ्रीका, मध्य पूर्व और पूर्वी एशिया के देशों में अपने सेंटर खोल कर बड़ी संख्या में रोजगार और व्यापार उपलब्ध करा चुकी आइकिया के निवेश से बड़ी संख्या में रोजगार मिलना तय माना जा रहा है।

फर्नीचर के साथ होम अप्लाएंस और फूड के क्षेत्र में भी उतर चुकी आइकिया के जरिये योगी सरकार यूपी के लोगों को नौकरी के साथ ही बड़ी तादाद में खुद के व्यापार का रास्ता भी तैयार करने जा रही है। कंपनी अपने उत्पादों को ऑनलाइन बेचने के साथ ही अलग अलग शहरों में फ्रेंचाइजी और शोरूम भी खोलेगी।

कंपनी ने दिसंबर 2018 में उत्तर प्रदेश सरकार के साथ नोएडा और राज्य के अन्य शहरों में 5,000 करोड़ रुपये के निवेश का समझौता किया था। उद्योग मंत्री सतीश महाना के अनुसार आइकिया को नोएडा में 47,833 वर्ग मीटर जमीन अलॉट की गई है। आइकिया ने 2016 में हैदराबाद में अपना पहला सेंटर 700 करोड़ रुपये की लागत से शुरू किया था। आइकिया कंपनी की योजना भारत में 10,500 करोड़ रुपये का निवेश कर 2025 तक कुल 25 सेंटर खोलने की है। इनमें करीब आधा हिस्सा अकेले यूपी का है।

यूपी चेंबर आफ कामर्स के को-चेयरमैन सतीश श्रीवास्तव कहते हैं कि अब तक दक्षिण भारत में महज दो आउटलेट खोलने वाली आइकिया को यूपी में लाकर योगी सरकार ने आर्थिक विकास की बड़ी नींव रखी है। ऐसी कंपनियों के यूपी के बाजार में उतरने से व्यापार और रोजगार तो बढ़ेगा ही लोगों को गुणवत्तापरक और विश्व स्तरीय मानक के फर्नीचर व अन्य उत्पाद कम कीमत में मिल सकेंगे। इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

योगी सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का कहना है कि रोजगार और व्यापार के लिहाज से अगले कुछ महीने बहुत महत्वपूर्ण हैं। देश और दुनिया की बड़ी कंपनियां यूपी में निवेश करने के लिए लगातार आगे आ रही हैं। राज्य सरकार इसके लिए हर स्तर पर प्रयास कर मूर्त रूप देने में जुटी है। प्रदेश के हर युवा को रोजगार और व्यापार से जोड़ने की योगी सरकार की प्रक्रिया पूरी गति के साथ आगे बढ़ रही है। एक के बाद एक कंपनियां आ रही हैं। हम आत्मनिर्भर यूपी अभियान को साकार कर रहे हैं।

--आईएएनएस

विकेटी-एसकेपी

नई दिल्ली: छात्र कार्यकर्ता शेहला राशिद के पिता अब्दुल रशीद शोरा ने मंगलवार को आरोप लगाया कि पैसे की लालसा के कारण शेहला ने उनकी पत्नी और दूसरी बेटी को उनके खिलाफ कर दिया है। जेएनयू की पूर्व छात्र नेता, अपनी बेटी शेहला पर देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने का आरोप लगाने वाले शोरा ने मंगलवार को ट्विटर पर बयान जारी किया। इसमें उन्होंने कहा, "जून 2017 से आतंकवादी फंड संचालक जहूर वटाली और राशिद इंजीनियर से पैसे लेने की बात शेहला द्वारा स्वीकारने के बाद मेरे घर में खासा हंगामा हुआ। पैसे की अपनी लालसा और साकिब जैसे अन्य असामाजिक तत्वों के समर्थन से शेहला, मेरी पत्नी और मेरी दूसरी बेटी को मेरे खिलाफ करने में सफल रही।"

आगे कहा गया, "हालात चरम पर पहुंच गऐ जब श्रीनगर के मंसिफ कोर्ट में दायर एक याचिका के जरिए शेहला और उसके साथियों ने 17 नवंबर को मुझे अपने ही घर से बेदखल करने का आदेश ले लिया। यह आदेश मुझे सुने बिना ही दे दी गया। आदेश को अपीलीय अदालत ने संशोधित किया था और 27 नवंबर को मेरे अधिकारों को बहाल किया। स्थानीय पुलिस तो इसे मेरे पक्ष में लागू करने में लगभग असहाय लग रही थी और जब मैंने मेरे घर में प्रवेश करना चाहा तो मुझे सीधे तौर पर शेहला के साथियों ने जान से मारने की धमकी दी गई।"

उन्होंने आगे कहा, "मेरी जिंदगी को खतरा देख मुझे श्रीनगर से भागना पड़ा। मुझे अपने कपड़े भी साथ नहीं ले जाने दिए। जम्मू पहुंच कर मैंने डीजीपी से संपर्क किया, उन्होंने मेरी बात सुनी और अधिकारियों को आवश्यक कानूनी कार्रवाई के लिए आदेश दिए। मैं जानता हूं कि 68 साल की उम्र में मैं अपनी 32 साल की जेएनयू की गुमराह, जोड़ तोड़, मीडिया प्रबंधन में विशेषज्ञ बेटी शेहला और उसके युवा साथियों से नहीं लड़ सकता, लेकिन मुझे ²ढ़ विश्वास है कि सच्चाई हमेशा कायम रहेगी।"

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि शेहला और उनके साथी प्रेस, मीडिया का ध्यान उस मुख्य मुद्दे से हटाने की कोशिश कर रहे हैं, जो उनके कुख्यात लोगों के साथ जुड़ने और कश्मीर में अपने देशविरोधी एजेंडे को पूरा करने के हैं।

--आईएएनएस

एसडीजे-एसकेपी

 

 

 

न्यूयॉर्क: अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन की ओर से बजट प्रमुख के रूप में नामित नीरा टंडन की परवरिश भी लगभग कमला हैरिस जैसी ही हुई है। दोनो की मां ने बतौर सिंगल इन्हें पाल पोष कर बड़ा किया, जो भारत से आई थीं और अपने दृढ़ संकल्प से बेटियों को प्रतिष्ठित पदों तक पहुंचा दिया।

बाइडेन द्वारा विलमिंगटन में नीरा टंडन को ऑफिस मैनेजमेंट और बजट की निदेशक के रूप में नामित किए जाने के बाद मंगलवार को टंडन ने कहा, "निर्वाचित उपराष्ट्रपति (कमला हैरिस) की मां श्यामला की तरह मेरी मां माया भारत में जन्मीं। लाखों लोगों की तरह, वह बेहतर जीवन की चाह में अमेरिका आईं।"

बजट प्रमुख का पद एक प्रभावशाली और प्रतिष्ठित पद है। लगभग 5 खरब के बजट को तैयार करना, देखरेख करना कई एजेंसियों के प्रबंधन को देखने और कांग्रेस के साथ काम करने की जिम्मेदारी होगी।

टंडन जब पांच साल की थी तब उनके माता-पिता का तलाक हो गया और कमला जब सात साल की थीं तब उनके माता-पिता का तलाक हुआ था।

टंडन मध्य वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखती है लेकिन उनकी मां के दृढ़ संकल्प और अमेरिकी उदारता ने उन्हें प्रभावशाली पद तक पहुंचा दिया।

उन्होंने कहा, "मैं आज यहां इस मुकाम पर हूं, मां के साहस को आभार लेकिन एक ऐसे देश को भी धन्यवाद, जिसने हम पर भरोसा किया, जिसने उनकी (मां की) मानवता और हमारे सपनों में इंवेस्ट किया।"

नीरा टंडन ने कहा, "मेरी मां अपने दो बच्चों के साथ अकेली रह गई थी और बिना नौकरी के। उन्हें एक विकल्प का सामना करना पड़ा -भारत लौटने का। जहां उस समय तलाकशुदा महिला को सम्मान की नजर से नहीं देखा जाता था और अवसर सीमित हो जाते थे - या फिर उनके पास दूसरा विकल्प अमेरिका में रहकर सपनों को पूरा करने का था। वह रुक गई और कई बार मुश्किल घड़ी में अमेरिका ने उनका साथ दिया।"

टंडन ने गरीबों के लिए सार्वजनिक कार्यक्रमों पर उनकी निर्भरता के बारे में खुलकर बात की, मुफ्त भोजन के लिए सरकार की ओर से वाउचर-फूड स्टैंप और सरकार की ओर से रेंट में सब्सिडी के लिए उपलब्ध कराया जाने वाला सेक्शन 8 वाउचर उनके लिए बड़ा सहारा बना।

उन्होंने कहा, "हमने अपने पैरों पर वापस खड़ा होने के लिए सोशल सेफ्टी नेट पर भरोसा किया।"

अपनी मां के संघर्ष के बारे में, उन्होंने कहा कि इस देश ने उन्हें मध्यम वर्ग तक पहुंचने में उचित रूप से मदद की। उन्हें ट्रैवल एजेंट के रूप में नौकरी मिली, और वह बेडफोर्ड, मैसाचुसेट्स में घर खरीद सकीं और बच्चों को कॉलेज जाते देख सकीं।

नीरा टंडन ने कहा कि मैं आज यहां सामाजिक कार्यक्रमों की वजह से हूं। बजटीय विकल्पों के कारण। सरकार ने मेरी मां की गरिमा को देखा और उन्हे मौका दिया, जिसकी बदौलत मैं यहां हूं।

उन्होंने कहा कि अमेरिकियों के जीवन स्तर को और ऊपर उठाने के लिए बजट कार्यक्रमों को आकार देना उनके लिए सम्मान की बात होगी।

--आईएएनएस

वीएवी-एसकेपी

दन: स्पेनिश टेनिस खिलाड़ी एनरिक लोपेज पेरेज को मैच फिक्सिंग में संलिप्त होने के कारण आठ साल के लिए बैन कर दिया गया है। टेनिस इंटीग्रीटि यूनिट (टीआईयू) ने मंगलवार को एक बयान जारी कर इस बात की जानकारी दी। टीआईयू ने कहा है कि एकल रैंकिंग में 154 और युगल रैंकिंग में 135 स्थान पर काबिज पेरेज को 2017 के तीन मामलों में दोषी पाया गया है।

टीआईयू ने कहा, "आनुशासन संबंधी इस मामले की सुनवाई पांच नवंबर को भ्रष्टाचार रोधी अधिकारी रिचार्ड मैक्लेरेन ने की। उन्होंने पाया कि पेरेज ने 2017 में तीन बार टेनिस के भ्रष्टाचार रोधी नियमों को तोड़ा है जबकि तीन आरोपों की पुष्टि नहीं हो सकी।"

उन पर 25,000 डालर का जुर्माना लगया गया है।

--आईएएनएस

एकेयू-एसकेपी

नई दिल्ली: भारत में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 36,604 नए मामले सामने आए हैं, जिनके साथ बुधवार को संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 94,99,413 हो गए। वहीं वायरस से और 501 मौतों के साथ मृत्यु के कुल आंकड़े 1,38,122 हो गए। यह जानकारी स्वास्थ्य मंत्रालय और परिवार कल्याण द्वारा जारी आंकड़ों से मिली।

देश में वर्तमान में, 4,28,644 सक्रिय मामले हैं, जबकि 89,32,647 रोगियों को अब तक छुट्टी दे दी गई है। बीते 24 घंटों में 43,062 लोगों को छुट्टी दी गई है।

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, रिकवरी दर 94.03 प्रतिशत है और मृत्यु दर 1.45 प्रतिशत है।

इंडियन मेडिकल काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने मंगलवार को कहा कि मंगलवार को किए गए 10,96,651 नमूनों के टेस्ट के साथ 1 दिसंबर तक कुल 14,24,45,949 नमूनों की जांच की गई।

महाराष्ट्र 1,828,826 मामलों के साथ सबसे अधिक प्रभावित राज्य बना हुआ है। यहां 90,168 सक्रिय मामले हैं और अब तक 47,246 मौतें दर्ज की गई हैं।

मंत्रालय के अनुसार, दर्ज किए गए नए मामलों में से 70 प्रतिशत से अधिक मामले महाराष्ट्र, दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, और छत्तीसगढ़ से हैं।

--आईएएनएस

एमएनएस-एसकेपी

नई दिल्ली: किसान आंदोलन बुधवार को सातवें दिन जारी है और आगे की रणनीति बनाने के लिए सिंघू बॉर्डर पर किसान संगठनों के नेताओं की बैठक चल रही है। केंद्र सरकार के साथ हुई वार्ता विफल होने के बाद किसान नेताओं की यह बैठक काफी अहम है क्योंकि इसमें सरकार द्वारा दिए गए प्रस्ताव पर भी वे विचार कर रहे हैं। सरकार ने किसान संगठनों को तीन दिसंबर यानी गुरुवार को फिर वार्ता के लिए बुलाया है। सिंघू बॉर्डर पर चल रही किसानों की इस बैठक में पंजाब के 30 किसान संगठनों के नेता मौजूद हैं। बैठक में जाने से पहले भारतीय किसान यूनियन (लाखोवाल) के जनरल सेक्रेटरी हरिंदर सिंह ने आईएएनएस से कहा कि किसानों की मांग है कि तीनों नये कृषि कानून को रद्द किया जाए, जबकि सरकार कमेटी बनाकर संशोधन की बात कर रही है। उन्होंने कहा, हमारी तो पहली मांग यही है कि जो नये कानून हैं (तीन कृषि कानून), उनको खत्म किया जाए, लेकिन सरकार कमेटी बनाने की बात करती है, जिसमें पांच सदस्य हमारी और पांच सदस्य उनकी तरह से हो।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ 35 किसान संगठनों के प्रतिनिधियों की विज्ञान-भवन में हुई बैठक में किसानों की समस्याओं पर चर्चा हुई। इस बैठक में रेलमंत्री पीयूष गोयल और केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्यमंत्री सोम प्रकाश भी मौजूद थे।

भाकियू नेता ने बताया कि बैठक में किसानों की अन्य मांगों पर भी चर्चा हुई और सरकार ने किसान संगठनों के प्रतिनिधियों से नये कृषि कानून समेत अन्य मसलों पर सुझाव लिखित रूप में मांगे हैं।

उन्होंने कहा कि बुधवार की बैठक में किसान नेता इस पर विचार-विमर्श कर रहे हैं।

केंद्रीय मंत्रियों के साथ मंगलवार को हुई बैठक के बाद किसान नेताओं को उनके सुझावों और समस्याओं पर चर्चा करने के लिए तीन दिसंबर को बुलाया गया है।

उधर, केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने बताया कि मंगलवार को हुई वार्ता के बाद किसान संगठनों के प्रतिनिधियों को फिर तीन दिसंबर को दोपहर 12 बजे चौथे दौर की वार्ता के लिए बुलाया गया है। उनसे नये कृषि अधिनियमों से संबंधित विशिष्ट मुद्दों की पहचान करने और सरकार के साथ इन्हें दो दिसंबर को साझा करने को कहा गया है। सरकार उन मुद्दों पर तीन दिसंबर को विचार करेगी।

केंद्रीय मंत्रियों ने किसान नेताओं को आश्वासन दिया कि भारत सरकार हमेशा किसानों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और किसानों के कल्याण के लिए चर्चा करने के लिए सदैव तैयार है।

विज्ञान भवन की बैठक के बाद, भारतीय किसान यूनियन के प्रतिनिधि राकेश टिकैत के नेतृत्व में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल एवं सोम प्रकाश से कृषि भवन में मिले। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि यह बैठक भी बहुत ही अच्छे माहौल में हुई जिसमें बहुत सार्थक, सारगर्भित व उपलब्धिपूर्ण चर्चा रही। इन प्रतिनिधियों से भी अगले दौर की चर्चा होगी, जिसके पहले दो दिसंबर तक लिखित में सुझाव मांगे गए हैं।

--आईएएनएस

पीएमजे-एसकेपी

गाजीपुर बॉर्डर (दिल्ली/उप्र): कृषि कानूनों के विरोध में 7 दिन से दिल्ली-हरियाणा-यूपी बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों को मनाने की सरकार की कोशिश मंगलवार को नाकाम रही। इधर, गाजीपुर बॉर्डर पर बुधवार सुबह किसानों ने हवन कर अपना आक्रोश प्रकट किया। किसानों ने सरकार के सद्बुद्धि के लिए पूजा पाठ किया। बॉर्डर पर वातावरण शुद्ध रहे, सुख शांति बनी रहे और सरकार को सद्बुद्धि प्राप्त हो, इसके लिए इस हवन का आयोजन किया गया। दरअसल भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर पर कृषि कानून के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं हवन कर रहे एक किसान ने आईएएनएस को बताया, हम चाहते है सभी के बीच सुख शान्ति बनी रहे, हम सब किसान भाइयों की मांगों को माना जाए। इन कानूनों को लेकर सरकार को थोड़ी सद्बुद्धि आए, इसके लिए हम पूजा पाठ कर रहे हैं।

भारतीय किसान यूनियन के युवा किसान नेता आलोक सोलंकी ने आईएएनएस को बताया, किसानों की बातों को सरकार नही सुन रही है। राजनेताओं की बुद्धि की सुद्धि के लिए हम हवन कर रहे हैं।

हालांकि मंगलवार को सरकार के साथ 35 किसान संगठनों की 3 घंटे की बातचीत बेनतीजा रही। साथ ही मीटिंग में सरकार की तरफ से कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अलावा रेल मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्य मंत्री सोमप्रकाश मौजूद रहे।

बता दें कि अभी भी टिकरी, सिंघु, चिल्ला और गाजीपुर बॉर्डर पर किसान इन कानूनों के विरोध में डेरा डाले हुए हैं।

-- आईएएनएस

एमएसके-एसकेपी

केप टाउन: दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज कागिसो रबादा चोट के कारण इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली तीन मैचों की वनडे सीरीज से बाहर हो गए हैं। रबादा को दाएं पैर में स्ट्रेन की समस्या है। इसी कारण वह अंतिम टी-20 मैच में नहीं खेले।

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) ने एक बयान जारी कर बताया है कि 25 साल के इस खिलाड़ी को ठीक होने में तीन सप्ताह का समय लगेगा।

सीएसए ने एक बयान में कहा, "श्रीलंका के खिलाफ 26 दिसंबर से शुरू हो रही टेस्ट सीरीज के लिए ठीक होने और तैयारी के लिए खिलाड़ी को टीम और बायो बबल रिलीज कर दिया गया है।"

रबादा ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सीजन में दमदार प्रदर्शन किया था। उन्होंने दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेलते हुए 17 मैचों मे 30 विकेट लिए थे। टीम को पहली बार आईपीएल फाइनल में पहुंचाने में उन्होंने बड़ी भूमिका निभाई थी।

इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए बीते दो टी-20 मैचों में उन्होंने हालांकि ज्यादा प्रभावित नहीं किया। शुक्रवार से इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलेंगी।

--आईएएनएस

एकेयू-एसकेपी

लॉस एंजेलिस: अभिनेता रॉबर्ट पैटिंसन का कहना है कि उनकी नई फिल्म टेनेट अविश्वसनीय रूप से जटिल होने के साथ-साथ महत्वाकांक्षी भी है। साथ ही कहा कि बहुप्रतीक्षित क्रिस्टोफर नोलन निर्देशित यह शो सिनेमा की वास्तविक संभावनाओं को दर्शाता है। पैटिंसन ने कहा, "यह अविश्वसनीय रूप से महत्वाकांक्षी और अविश्वसनीय रूप से जटिल है। मेरा मतलब है कि कोई भी क्रिस जैसी फिल्में नहीं बनाता है और यह आईएमएएक्स कैमरों के भीतर सभी नई तकनीक के साथ स्टेरॉयड पर क्रिस नोलन की तरह है, जो विशेष रूप से इस फिल्म के लिए डिजाइन किए गए थे। मैं इस फिल्म को थिएटर में ना देखने की कल्पना भी नहीं कर सकता।"

मूल रूप से टेनेट को जुलाई में रिलीज करना था, लेकिन चल रही महामारी के कारण इसे कई बार स्थगित करना पड़ा। देरी के बाद भी नोलन हमेशा फिल्म को बड़े पर्दे पर ही रिलीज करना चाहते थे।

पैटिंसन भी जोर देकर कहते हैं कि इसे बड़े पर्दे पर ही देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा, "ऐसे लोग जो महीनों तक सिनेमाघर नहीं जा सके, उन्हें अब ऐसा करने के लिए आगे बढ़ना चाहिए। यह दिखाता है कि सिनेमा में क्या संभव है। क्रिस ने उन सीमाओं को आगे ढकेला है कि आप लगभग बिना विजुअल इफेक्ट्स के क्या कर सकते हैं। यह बहुत ही शानदार अनुभव है।"

नोलन की नई फिल्म पैटिंसन और जॉन डेविड वाशिंगटन द्वारा निभाए गए दो खुफिया एजेंटों के किरदारों को एक रोमांचक मिशन पर ले जाती है।

वार्नर ब्रदर्स पिक्च र्स के इस प्रोजेक्ट बॉलीवुड की डिंपल कपाड़िया के साथ-साथ एलिजाबेथ डेबकी, केनेथ ब्रानघ, माइकल कैइन, आरोन टेलर-जॉनसन और क्लेमेंस पोस्सी भी हैं। फिल्म को सात देशों - भारत, अमेरिका, यूके, डेनमार्क, एस्टोनिया, इटली और नॉर्वे में शूट किया गया है।

यह फिल्म 4 दिसंबर को भारत में अंग्रेजी, हिंदी, तमिल और तेलुगु भाषाओं में रिलीज होने वाली है।

--आईएएनएस

Don't Miss